HomeMore

भारतवर्ष मे दशहरा क्यों मनाया जाता है? दशहरा का क्या महत्व है।

हम सभी हिन्दू भारत मे रहते है और भारत एक बहुत ही विख्यात संस्कृति वाला देश है। यहा पर हर एक त्योहार बहुत ही धूम- धाम के साथ मनाया जाता है। दशहरा हम हिन्दुवों का एक प्रसिद त्योहार है। जो की अच्छाई पर बुराई की जीत का एक प्रतीक है इसी की ख़ुशी में पूरे भारत मे मनाया जाता है। दशहरा को हम विजयदशमी के नाम से भी जानते है, क्यूकी इसी दिन असत्य पर सत्य की विजय हुयी थी इस दशमी को मानते है और विजयदशमी के नाम से जानते है।आज हम जानेगे की भारतवर्ष मे दशहरा क्यों मनाया जाता है?Dussehra celebrate in india

कुछ लोग ऐसा मानते है की दशहरा के दिन नया कार्य प्रारम्भ करने से उनको विजय प्राप्त होती है, आपको बताना चाहुगा की नया कार्य प्रारम्भ करने का मतलब ये है, की इस दिन आप अपने किसी दुकान/कंपनी/फ़र्म का उदघाटन कर सकते है, लोगो का मानना  ये है की इस दिन काय प्रारम्भ करने से लाभ होता है और खुशाली आती है। भारत मे हम दशहरा को पूरे दस दीनो तक मनाते है। दशहरा पर्व केवल भारत में ही नहीं बल्कि भारत के बाहर भी अन्य राज्यो मे कुछ अलग ही उल्लास और हर्ष के साथ मनाया है।

भारतवर्ष मे दशहरा क्यों मनाया जाता है? आइये जाने। why is dussehra celebrated

दशहरा मनाने का प्रमुख उदेश्य ये है की इसी दशहरे के दिन भगवान राम अपनी पत्नी सीता को रावण से छुड़ाकर वापस आए थे जो अच्छाई की बुराई पर विजय, के प्रतीकात्मक रूप में मनाया जाता है। दशहरा या फिर विजयदशमी भगवान श्री राम की विजय के रूप में मनाया जाता है और इसको हम दुर्गा पूजा के रूप में भी मानते है। दशहरे का यह पर्व पूरे दस दिने के लिए मनाया जाता है, इस दिन देश भर में लाखों लोगों के द्वारा ये पर्व मनाया जाता है।dasara festival story

दशहरे को हम विजयदशमी के नाम से इसलिए जानते है क्यूकी  विजयदशमी का मतलब है की दसवें दिन विजय, यह दसवें दिन विजय का प्रतीक है, इस दिन हम रावण के पुतले को जलाते है और बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाते है। दशहरे के दिन जगह-2 पर मेले लगते है, और हम हर्ष, उल्लास तथा विजय के साथ इस पर्व को मनाते है।

दशहरे का प्रमुख उदेश्य ये है की हमे अपने अंदर की बुराई पर विजय प्राप्त करनी चाहिए। हमे अपने अंदर की बुराईयो से लड़ने का पूरा प्रयास करना चाहिए मनुष्य मे बहुत सारी बुराईया है जैसे- क्रोध, मोह,इर्षा, दुख, आलस्य, हिंसा आदि।

दशहरा को कैसे मनाया जाता है? पूरी जानकारी।

दशहरे को हमको प्रेमपूर्वक मनाना चाहिए,  क्यूकी इसी दिन भगवान रामचौदह वर्ष का वनवास भोगकर तथा रावण का वध करके  सीता माता को लेकर अयोध्या पहुँचे थे, वो दिन बहुत ही खुशाली भरा था। कहते है की दशहरा उत्सव दुर्गोत्सव के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि लोगो का ये मानना है की उसी दिन एक और राक्षस जिसे महिषासुर  के नाम से जाना जाता था, जो बहुत ही भयंकर था, दसवीं दिन पर माता दुर्गा द्वारा मारा गया था। इसलिए हमे इस पर्व को खुशी और प्रेम से सबके साथ मिलकर मनाना चाहिए। 

दशहरा का आखिर क्या महत्व है? importance of dussehra:-

दशहरा की महत्वता अलग -2 राज्यो मे कुछ अलग और विशेष है। महाराष्ट्र में इस अवसर पर ‘सिलंगण’ के नाम से सामाजिक महोत्सव के रूप मे इसको खुशी और बहुत हर्ष और उल्हाष के साथ मनाते है। भारत के अतिरिक्त दशहरा अपने अलग-अलग रूपों में नेपाल, श्रीलंका, और बांग्लादेश जैसे देशों में भी बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जाता है । हिमाचल प्रदेश में कुल्लू का दशहरा बहुत प्रसिद्ध है। बंगाल मे यह पर्व दुर्गा पूजा के रूप में मनाया जाता है और  कर्नाटक में मैसूर का दशहरा भी पूरे भारत में प्रसिद्ध है, देखा जाए तो ऐसे हर एक राज्य मे दशहरा अपनी अलग-2 खूबियो की तरह मनाया जाता है, जो की हमारे देश की एकता का प्रतीक है।

दशहरा से जुड़ी क्या कहानी है? आइये जाने? Dasara festival story

देखा जाए तो हमारे हिन्दू धर्म मे दशहरा से जुड़ी अनेकों कहानिया मौजूद है, आइये कुछ कहानियो पर चर्चा करते है।

  • दशहरा के दिन ही माता दुर्गा ने राक्षस महिससुर का वध किया था, और बुराई पर विजय प्राप्त की थी इसी खुशी मे हम इस पर्व को मानते है।
  • ऐसा लोग कहते है की दशहरा के दिन ही पांडवो को 14 वर्ष का वनवास हुआ था। 
  • दशहरा के दिन ही भगवान राम मे रावण पर विजय प्राप्त की थी इसलिए हम दशहरा के पर्व को बहुत धूम-धाम के साथ मानते है, दशहरा हम हिन्दुवों के लिए बहुत ही खुशी भरा पर्व माना जाता है। 

दशहरा पर निबंध? Dussehra essay in Hindi

दशहरा एक महत्वपूर्ण हिंदू त्योहारो मे से एक है। दशरे के दिन बहुत बड़ा मेला आयोजित किया जाता है। जहां पर देवी माता की पूजा की जाती है, जिसको हम दुर्गा पूजा के नाम से जानते है। दशहरा के दिन हर एक चौराहे पर और मैदानो मे रावण का पुतला जलाया जाता है।और रात मे रामलीला होती है। हर जगह मेले का आयोजन किया जाता है, और चौकिया निकलती है। इन चौकियो मे राम के द्वारा रावण का वध कैसे किया, उसको लोग मंच पर प्रस्तुत करते है। प्रयागराज मे हर साल दशहरा के मेले के दिन चौकिया निकाली जाती है इसका प्रमुख उद्देश्य बुराई पर विजय प्राप्त करना है। 

दशहरा उत्सव दुर्गोत्सव के रूप में भी मनाया जाता है क्योंकि यह माना जाता है कि उसी दिन एक और राक्षस जिसे हम महिषासुर के नाम से जानते है, दशहरा के दसवीं दिन पर माता दुर्गा द्वारा मारा गया था। दशहरा के दिन माता दुर्गा का पंडाल लगाया जाता है, जहा नौ डीनो तक लगातार माता की पूजा की जाती है, भजन- कीर्तन का भी आयोजन किया जाता है, और विजयदशमी के दिन बहुत ही धूम-धाम के साथ माता दुर्गा को गंगा मे विसर्जित किया जाता है। 

दशहरा 2019 मे कब मनाया जाएगा:- Dussehra 2019

इस साल 2019 मे दशहरा कब मनाया जाएगा, पूरी जानकारी जाने।

  • 29 September, 2019- नवरात्रि की शुरुआत
  • 6 October- दुर्गा अष्टमी, महाअष्टमी, अष्टमी
  • 7 October-  दुर्गा नवमी, महानवमी, नवमी
  • 08 October- दशहरा विजयदशमी

दशहरा का मेला:- Festival of Dussehra 2019

दशहरा का मेला हर एक राज्य मे अपनी एक अलग गरिमा के साथ मनाया जाता है, मेले मे काफी भीड़ आपको देखने को मिलती है। दशहरा के दिन माता दुर्गा के बहुत बड़े-2 पंडाल लगाए जाते है और दुर्गा माता की पुजा की जाती है और हर जगह माता के जागरण भी आयोजित किए जाते हैं  दशहरे के दिन नीलकंठ का दर्शन कर पाना बहुत ही शुभ माना जाता है।

पोस्ट से संबंधित सारांश:-

आज की इस आर्टिक्ल मे मैंने आपको बताया की भारतवर्ष मे दशहरा क्यों मनाया जाता है? why is dussehra celebrated और दशहरा का आखिर क्या महत्व है? importance of dussehra साथ ही साथ मैंने ये भी बताया की दशहरा से जुड़ी क्या कहानी है? dasara festival story और इस साल 2019 मे दशहरा कब मनाया जाएगा ये सभी जनकरी मैंने आपको दी।

मैं उम्मीद करता हु की आपको ये आर्टिक्ल पसंद आया होगा, अगर आपको ये आर्टिक्ल पसंद आया हो तो इसको सोश्ल मीडिया पर अपने दोस्तो के साथ जरूर से शेयर कीजिए, जिस से उनको भी ये जानकारी प्राप्त हो सके।share Technicalcube

इस Article को पढ़ने के लिए धन्यवाद ! दशहरा की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाए,Technical Cube दुबारा Visit करे.

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *